ads

लिखने के फायदे क्या हैं ? डायरी लिखने के क्या लाभ है


यह scientific रूप से भी प्रमाणित हो चुका है कि लिखने के फायदे बहुत सारे हैं । चाहे आप एक student हों या चाहे एक businessman । Students के लिए लिखना बहुत ही लाभदायक होता है चाहे वे बच्चे से लेकर एक वयस्क क्यों ना हो ।

आज के जमाने में पढ़ना जितना जरूरी होता है उतना ही महत्वपूर्ण लिखना ही होता है अगर एक व्यक्ति पढ़ लेता है पर लिख नहीं पाता ऐसा हो नहीं सकता क्योंकि व्यक्ति पढ़ना लिखना एक साथ सीखता है । पढ़ना लिखना एक ही सिक्का के दो पहलू हैं । अगर लिखने के फायदे या विशेषताओं को देखा जाए तो यह सभी के लिए महत्पूर्ण होता है ।

लेखन केवल school - college तक सीमित नहीं रहती बल्कि घर से लेकर ऑफिस ( office) तक , देश से लेकर विदेश तक महत्पूर्ण है । लेखन की श्रेणी में डायरी लेखन को भी बहुत लाभदायक माना जाता है । अगर आप आगे चलकर एक लेखक बनना चाहते हैं तो आपको लेखन श्रेणी कि अच्छी खासी जानकारी (knowledge) होनी चाहिए , क्योंकि लिखना तो हर कोई जानता है पर एक विशेष श्रेणी , प्रभावोत्पादक, सरल भाषा में लिखा गया लेख ही एक अच्छे लेखक की पहचान होती है ।


लिखने के फायदे

लिखने के निम्न फायदे हैं -

1. भाषा में सुधार

अगर आप नियमित (daily) कुछ भी लिखते हैं तो आपकी लिखने कि श्रेणी में सुधार होगा साथ ही आपकी भाषा में सुधार होगी । आमतौर पर घर में या दोस्तों के साथ प्रयोग होने वाली भाषा एक कार्यलय (office), स्कूल (school), कॉलेज (college) में बड़ी विचित्र लगेगी और हो सकती है आपकी इस प्रकार के भाषा के कारण से आपको शर्मिंदा भी होना पड़े । इसलिए नियमित लिखने से आपकी भाषा में सुधार होगी । साथ ही मात्राओं में होने वाली गलती भी सुधरेगी ।
भाषा की सुस्पष्टता आज कल बहुत ही महत्वपूर्ण है आप कहीं भी किसी नौकरी के लिए जाते हैं तो आपका इंटरव्यू (interview) लिया जाता है जहां आपके बात करने और भाषा को विशेष ध्यान दिया जाता है ।

2. स्टूडेंट्स (students) को याद रखने में मदद

शिक्षा से संबंधित किसी भी जानकार या शिक्षक को यह पूछा जाए कि पढ़ने या किसी भी सवाल को याद रखने का सबसे बढ़िया तरीका कौन सा है तो वे आपको यह जरूर बोलेंगे की लिख - लिख के पढ़ना लाभदायक होता है । लिखने से शब्द दिमाग में छप जाते हैं इसलिए स्टूडेंट्स (students) को पढ़ते समय, लिख लिख के पढ़ना चाहिए । खास तौर पर परीक्षा के समय क्योंकि यह परीक्षा कि तैयारी के लिए बहुत से लाभदायक सिद्ध होती है ।

3. लिखावट में सुधार (Writing में सुधार )

अगर आप लिखना सीख भी गए लेकिन अगर आपकी लिखावट अच्छी ना हो तो कोई भी आपकी लिखी हुई को नहीं पढ़ पाएगा । कुछ लोगों की लिखावट इतनी खराब होती है कि उसे पढ़ने के लिए बहुत मेहनत करना पड़ जाता है । खराब लिखावट ज्यादातर उनकी होती है जो बहुत कम लिखते हैं , आप खराब लिखावट को अभ्यास के जरिए सुधार सकते हैं इसलिए यहां लिखना बहुत ही लाभदायक होता है ।

4. मन की शांति

अगर आप बहुत ज्यादा डिप्रेशन में हो तब आप अपने मन में को कुछ भी है उस लिखकर अपनी मन की बोझ को कम कर सकते हैं । यहां इसका मतलब नहीं है कि आप कोई किताब में कुछ लिखा है उस देख देख कर लिखें । अगर आपको अपनी मन को हल्का रखना है तो आप अपनी मन कि सोच को लिख सकते हैं कि आपको क्या लगता है , इसे लोग डायरी भी कहते हैं पर आप इसे डायरी समझ का ना लिखें बस अपनी फीलिंग्स लिखें । बहुत से ऐसे लोग होते हैं को अपनी तकलीफ को दूसरों के साथ शेयर (share) नहीं कर सकते वैसे में आप लिखकर अपनी मन की स्ट्रेस (stress) को कम कर सकते हैं ।

5. एक अच्छा लेखक बन सकते हैं

अगर आप लिखने के शौकीन हैं तो लिखना आपके लिए बहुत बढ़िया है आप एक अच्छे लेखक बन सकते हैं । अच्छा लेखक आप मोटी मोटी किताब ना पढ़कर बल्कि अपनी लिखने कि शैली से बन सकते हैं । अगर आप कोई जॉब भी करते हैं तब आप जब खाली समय हो तो अपनी पसंद के अनुसार (जैसे - कहानी, उपन्यास, पद्य आदि ) लिख सकते हैं । निरंतर लिखने से आपके लिखने कि शैली में सुधार होगा और लोगों को आपकी लेख पढ़ने में रुचि होगी । आप निरंतर लेखन के अभ्यास द्वारा एक कुशल लेखक बन सकते हैं ।

6. दिमाग की कसरत

नियमित लिखने से दिमाग का उपयोग होता है जो मस्तिष्क का कसरत की तरह काम करता है और मस्तिष्क हमेशा एक्टिव और तीव्र रहता है । यह व्यक्ति को तनाव और चिंताओं से मुक्त रखता है जो कि स्वस्थ व्यक्ति के लिए बहुत ही जरूरी होता है ।


डायरी लिखने के फायदे या लाभ

डायरी एक ऐसा माध्यम है जिसकी मदद से हम अपनी पर्सनल (personal) खुशहाल, या प्यार मूवमेंट (movement) को बटोर सकते हैं । डायरी एक ऐसा माध्यम है जहां हम अपनी मन की बात को बाहर ला पाते हैं जिस बात को हम किसी के साथ साझा (share) नहीं कर सकते हैं । डायरी लिखने से मन शांत और प्रसन्न रहता है ।
कई वेबसाइट (website) के अनुसार लिखने से दिमाग का एक्सरसाइज (excercise) होता है जिससे दिमाग एक्टिव (Active) रहता है साथ की घाव जल्दी भरता है । अगर आप नियमित लिखते हैं तो आपका मन प्रसन्न और तीव्र रहता है । लिखने से मस्तिष्क का कसरत होता है क्योंकि मस्तिष्क नए नए विचार लाता है, इससे दिमाग में प्रेशर नहीं पड़ता क्योंकि दिमाग ये बातें खुद से बनाता है । इसी तरह क्रिएटिविटी का विकास होता है ।

डायरी लिखने से ना केवल मस्तिष्क का कसरत होता है बल्कि उंगलियों का भी कसरत होता है क्योंकि लिखते समय उंगलियों का प्रयोग होता है, यहां डायरी लिखने का एक साथ कई फायदा हो जाता है ।

निष्कर्ष

लिखने के फायदे बहुत सारे हैं पर यह एक बोझ नहीं होना चाहिए, क्योंकि अगर आप इसे एक जॉब (job) की तरह करते हैं और हमेशा लिखते रहते हैं तो आपको हो सकता है इसमें आपको थोड़ा बोर लगे लेकिन अगर आप सामान्य तौर पर लिखते हैं तो इससे आप तनाव मुक्त रह सकते हैं ।


एक व्यक्ति भले ही शारीरिक रूप से भले की कितना ही स्वस्थ क्यों ना हो अगर वो मन से प्रसन्न और चिंताओं से मुक्त ना हो तो बीमार जरूर पड़ जाता है । लेखन से मन प्रसन्न एवम् चिंता मुक्त रहता है । यहां आपने लेखन के बहुत से फायदे देखे हैं ,इसके अलावा भी लेखन के बहुतों फायदें है । उम्मीद है आपको लेखन के फायदे समझ आ गए होंगे और आप भी जल्दी है लिखना प्रारंभ कर देंगे ।